‘जल’ तुम भी न- हिंदी कविता- PAmit Hindi Poems

‘जल’ तुम भी न
किसी को ‘जलाते’ भी नहीं
व्यर्थ अपना नाम ‘जल’ रख रखा है।
तभी तो तुम्हारे होने का,
मैंने अपने मन में शक रखा है।

2 comments

  1. क्या बात है।
    नाम पावरहाउस,बाप अंधेरे में मर गए।
    आग को बुझाते बुझाते शायद नाम जल पड़ गए।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s