‘अब डर नहीं है’ (There is no fear now)- हिंदी कविता- PAmit Hindi Poems

चाँद-तारों के खो जाने का डर नहीं है,
मुझे सूरज के उतर आने का डर नहीं है,
यह लम्हा गुजरना ही है, गुजर जाएगा,
मुझे इसके गुजर जाने का डर नहीं है।
उस पर अधिकार नहीं, उसकी भी सत्ता है,
मुझे उसके मुकर जाने का डर नहीं है
अनेक ख्यालों से इतना गुजर चुका,
अब कोई ख्याल आने का डर नहीं है
स्वयं के ही सागर में गहरा आ गया हूँ,
अब कश्ती-किनारों का डर नहीं है
मैं जीत चाहता नहीं, ऐसा नहीं है,
बस अब हार जाने का डर नहीं है
मैं जब से चला हूँ, सड़क को,
तले पैरों के रौंदकर, गाँव को, और,
छोड़, यहाँ की बिकती हुई छाँव को,
वापस अब शहर आने का डर नहीं है।

ENGLISH TRANS.(by mr. Google)

There is no fear of lost moon and stars,
I’m not afraid of the sun coming down,
This moment has to pass, it will pass,
I am not afraid of passing it.
I do not have authority, she also has existance,
I’m not afraid of her retracting
Passed through so many thoughts,
There is no fear now, arriving of a new,
I have come deep into my own ocean,
No longer afraid of kayak-edges
I do not want to win, it is not so
Just I don’t afraid of losing,
Ever since I walked the road,
Trampled underfoot, the village, and,
Leave, the sold-out shade here,
No more fear of coming back to the city.


10 comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s