प्रेरणादायी कहानियाँ-4- जब हवा चलती है…

एक द्वीप के उत्तरी छोर पर एक किसान रहता था। उसे अपने खेत में काम करने वालों की बहुत जरूरत रहती थी, लेकिन ऐसी खतरनाक जगह, जहाँ आए दिन आंधी-तूफान आते रहते हों, कोई काम करने को तैयार नहीं होता था।

किसान ने एक दिन शहर के अखबार में इश्तहार दिया कि उसे खेत में काम करने वाले एक मजदूर की जरूरत है। किसान से मिलने कई लोग आए, लेकिन जो भी उस जगह के बारे में सुनता और उस जगह को देख भयभीत हो उठता, वह काम करने से मना कर देता।

अंतत एक समान्य कद का पतला-दुबला अधेड़ व्यक्ति किसान के पास पहुँचा। किसान ने उससे पूछा, “क्या तुम इन परिस्थितियों में काम कर सकते हो।”
“हाँ, बस जब हवा चलती है, तब मैं सोता हूँ।”, व्यक्ति ने उत्तर दिया। किसान को उस व्यक्ति का यह उत्तर बहुत अटपटा सा लगा। इसके बावजूद, आवश्यकता होने के कारण किसान ने उसे काम पर रख लिया। मजदूर बहुत मेहनती निकला। वह सुबह से शाम तक खेतों में काम करता। किसान भी उससे काफी संतुष्ट था।

कुछ ही दिन बीते थे कि एक रात अचानक ही जोर-जोर की हवा बहने लगी। किसान अपने अनुभव से समझ गया कि अब तूफान आने वाला है। वह तेजी से उठा, हाथ में लालटेन ली और मजदूर के झोपड़े की तरफ दौड़ा।
“जल्दी उठो! देखते नहीं, तूफान आने वाला है। इससे पहले कि सबकुछ तबाह हो जाए, कटी फसलों को बांधकर ढक दो और बाड़े के गेट को भी रस्सियों से कस दो।”, किसान तेज आवाज में चीखने लगा।

मजदूर बड़े आराम से पलटा और बोला, “नहीं जनाब, मैंने आपसे पहले ही कहा था कि जब हवा चलती है, तब मैं सोता हूँ।”, यह सुनकर किसान का गुस्सा सांतवे आसमान पर पहुँच गया। उसके मन में आया कि वह उस किसान को जान से मार दे, मगर अभी वह आने वाले तूफान से चीजों के बचाने के लिये भागा।

किसान खेत में पहुँचा और उसकी आंखें आश्चर्य से खुली रह गईं। फसल की गांठें अच्छे से बंधी हुई थीं और तिरपाल से ढकी भी थीं। उसके गाय-बैल सुरक्षित बंधे हुए थे और मुर्गियाँ भी अपने दड़बों में थीं। बाड़े का दरवाजा भी मजबूती से बंधा हुआ था। सारी चीजें बिलकुल व्यवस्थित थीं। नुकसान होने की कोई संभावना नहीं बची थी।

किसान अब मजदूर की यह बात कि “जब हवा चलती है, तब मैं सोता हूँ”, समझ चुका था और अब वह भी चैन से सो सकता था।

7 comments

  1. इंसान वही जो चाल समझे
    चाल समय की समझे यहां
    दुरद्रष्टिता जाग्रत जिसकी
    वही जल्द सफल बनता यहां।।

    काल करे सो आज करे
    आज करे सो करे अभी
    जिसने नीति अपनाई ऐसी
    उसे कोई ना रोक सके कभी।।

    Liked by 3 लोग

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s